हेल्थ
Trending

तेल को बार-बार गर्म करने से बढ़ता हैं कैंसर का खतरा,,एक क्लिक में जाने कितने दिन पुराना ऑइल कर सकते हैं यूज...

Frequent use of oil can increase the risk of heart disease and cancer.

आमतौर पर घरों या होटल-रेस्टोरेंट में एक ही तेल को बार-बार इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि इस्तेमाल किए गए तेल को दोबारा इस्तेमाल करना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

हाल ही में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडीकल रिसर्च ने इसे लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है।

ICMR ने बताया कि तेल को दोबारा इस्तेमाल करने से हार्ट डिजीज और कैंसर का खतरा बढ़ता है। कई सारे होटल-रेस्टोरेंट्स में एक ही तेल को बार-बार इस्तेमाल किया जाता है।

इतना ही नहीं आमतौर पर घरों में एक बार इस्तेमाल किए तेल को दोबारा इस्तेमाल कर लिया जाता है। हालांकि, आपकी यह आदत आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकती है।

दरअसल, वनस्पति तेल या फैट को ‘बार-बार गर्म करने’ से गंभीर नुकसान हो सकते हैं। इस बारे में हाल ही में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च ने चौंकाने वाला खुलासा किया है।

बीते दिनों ICMR ने भारतीयों के लिए एक रिवाइज्ड डाइटरी गाइडलाइन्स जारी की थी, जिसमें खानपान और इसे जुड़ी आदतों को लेकर कई सारे दिशानिर्देश किए हैं।

अपनी इन्हीं गाइडलाइन्स में उन्होंने बताया कि वनस्पति तेलों को बार-बार गर्म करने से जहरीले कंपाउंड उत्पन्न हो सकते हैं, जो डार्ट डिजीज और कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं।

बार-बार तेल गर्म करने से हो सकता है कैंसर

जारी दिशानिर्देशों में कहा गया है कि खाना पकाने के लिए वनस्पति तेलों का दोबारा इस्तेमाल करने की आदत घरों और होटल-रेस्टोरेंट दोनों में बहुत आम है।

ऐसे में रिपोर्ट में बताया गया है कि यह कैसे हानिकारक कंपाउंड को छोड़ सकता है, जो चिंताजनक स्वास्थ्य स्थितियों की वजह बन सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है, “वनस्पति तेल/फैट को बार-बार गर्म करने से पीयूएफए का ऑक्सीकरण होता है, जिससे ऐसे कंपाउंड का निर्माण होता है, जो हानिकारक/टॉक्सिक होते हैं और हार्ट डिजीज और कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं।

दिल के लिए हानिकारक

हाई टेम्परेचर पर तेल में मौजूद कुछ फैट ट्रांस फैट में बदल जाते हैं। ट्रांस फैट हानिकारक फैट हैं, जो दिल की बीमारी के खतरे को बढ़ाते हैं।

जब तेलों का दोबारा उपयोग किया जाता है, तो ट्रांस फैट की मात्रा बढ़ जाती है। इससे पहले भी कुछ अध्ययनों से यह भी पता चला है कि कैसे खाना पकाने के लिए तेल को दोबारा गर्म करने से टॉक्सिक पदार्थ निकल सकते हैं और शरीर में फ्री रेडिकल्स भी बढ़ सकते हैं, जिससे सूजन और विभिन्न पुरानी बीमारियां हो सकती हैं।

अपनी इन गाइडलाइन्स में ICMR ने भी बताया कि बचे हुए वनस्पति तेल का दोबारा इस्तेमाल कैसे और कब तक किया जा सकता है।

ICMR ने यह कि कहा कि घरों में एक बार तलने के लिए उपयोग किए गए वनस्पति तेल को फिल्टर किया जाना चाहिए और करी में इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन तलने के लिए उसी तेल का दोबारा उपयोग करने से बचना चाहिए।

इसके अलावा, ऐसे तेलों को एक या दो दिन में इस्तेमाल करना चाहिए। साथ ही लंबे समय तक ऐसे तेलों से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसे तेलों में खराब होने की संभावना अधिक होती है।

Related Articles

Back to top button