उत्तराखण्ड
Trending

बड़ी ख़बर,,कांवड़ यात्रा की आड़ में उपद्रव बर्दाश्त नहीं किया जायेगा : DGP

Kanwar Yatra 2024: Preparation of security and traffic arrangements in the coordination meeting.

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अभिनव कुमार की अध्यक्षता में अन्तर्राज्यीय व अन्तर इकाई समन्वय बैठक का आयोजन पुलिस मुख्यालय स्थित सभागार में किया गया।

इसमें उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, सीआरपीएफ, रेलवे सुरक्षा बल, आसूचना ब्यूरो के अधिकारियों ने प्रत्यक्ष एवं ऑनलाइन प्रतिभाग किया।

पुलिस अधीक्षक अभिसूचना तृप्ति भट्ट ने बैठक का संचालन किया। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि 22 जुलाई से 02 अगस्त तक कांवड़ यात्रा है।

कांवड़ एक बहुत बड़ा धार्मिक आयोजन है, जिसमें न केवल हरिद्वार बल्कि पडोसी जनपदों एवं राज्यों में भी अनेक चुनौतियां जैसे कानून व्यवस्था, भीड प्रबन्धन, यातायात प्रबन्धन आदि आती है।

पूर्व में यह यात्रा केवल उत्तराखण्ड राज्य को ही प्रभावित करती थी परन्तु अब यह उत्तरी भारत के राज्यों को भी प्रभावित करती है।

इस बैठक का उद्देश्य उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल, पंजाब, राजस्थान व अन्य एजेन्सियों के पारस्परिक सहयोग से कांवड़ यात्रा को सकुशल व शान्तिपूर्वक सम्पन्न कराना है।

सभी के विचारों पर विमर्श करने के बाद हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे है कि कांवड यात्रा की संवेदनशीलता बढी है।

सोशल मीडिया पर कांवड यात्रा को लेकर हो रही पोस्टों पर सर्तक दृष्टि रखने की आवश्यकता है, इस हेतु सोशल मीडिया मॉनिटरिंग को बढ़ाया जाएगा।

हमें कांवड यात्रा के तय मार्ग पर ही कांवड़ियो को रखने के प्रयास करने है ताकि हाईवे पर यातायात में व्यवधान उत्पन्न न हो।

हमें सभी इस पर सामूहिक रूप से प्रयास करेंगें। कांवड़ यात्रा एक पवित्र धार्मिक यात्रा है, इसका यही पवित्र स्वरूप रखा जाये। कांवड़ यात्रा की आड़ में उपद्रव बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

बैठक में पुलिस महानिरिक्षक अभिसूचना कृष्ण कुमार वी0के0 ने प्रस्तुतिकरण के माध्यम से कांवड़ यात्रा के साम्प्रदायिक दृष्टि, सोशल मीडिया पर प्रसारित फेक न्यूज से संवेदनशील होने और राष्ट्र विरोधी तत्वों पर सतर्क दृष्टि रखने के सम्बन्ध में बताया।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, हरिद्वार- प्रमेन्द्र सिंह डोबाल ने कांवड़ मेले के दौरान किए जाने वाली पुलिस व्यवस्थाओं, यातायात प्रबन्धन, भीड़ नियन्त्रण, यात्रा रूट पर किये जाने वाले पुलिस प्रबन्ध, कावड़ यात्रा के दौरान विगत वर्षो में होने वाली दुर्घटनाओं व पार्किंग आदि के बारे में प्रस्तुतिकरण किया।

उन्होंने बताया की विगत 15-20 वर्षों से प्रत्येक वर्ष कांवड़ियों की संख्या में भारी वृद्धि हो रही है। इस वर्ष सम्पूर्ण कांवड़ क्षेत्र को 14 सुपर जोन, 36 जोन और 130 सैक्टर में विभाजित किया गया है, जिसमें लगभग 7000 पुलिसकर्मी पुलिस व्यवस्था में लगेंगे।

उन्होंने कांवड़ यात्रा की व्यवस्था में लगे सभी नोडल अधिकारियों का व्हाटसएप ग्रुप बनाने, अन्तर्राज्यीय बैरियरों पर संयुक्त पुलिस चैकिंग करने, सोशल मीडिया पर भेजे जाने वाले संदेशों की निगरानी रखने आदि के सम्बन्ध में सभी अधिकारियों से सहयोग की अपील की।

वेबसाइट पर हरिद्वार पुलिस के हेल्पलाइन नंबर से चैटिंग का प्रावधान भी दिया गया है।

 

Related Articles

Back to top button