INDIA
Trending

जेपी नड्डा के बाद कौन होगा BJP का राष्ट्रीय अध्यक्ष? इन नेताओं के बीच लगी रेस,,जाने कौन है सबसे आगे...

JP Nadda's tenure ends, race for new BJP national president intensifies.

जेपी नड्डा का बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष का कार्यकाल इस साल जून में खत्म हो रहा है. यही वजह है कि उन्हें अब राष्ट्रीय अध्यक्ष की जगह केंद्रीय मंत्री बना दिया गया है।

बीजेपी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष की खोज तेज हो चुकी है. जेपी नड्डा के केंद्रीय मंत्रिमंडल में जाने के बाद ये बात साफ हो गई है कि अब किसी नए चेहरे को बीजेपी की कमान दी जाएगी।

इस वक्त बीजेपी अध्यक्ष की रेस में कई ऐसे नाम चल रहे हैं, जो काफी ज्यादा हैरानी भरे भी लगते हैं, जबकि कुछ नामों को लेकर कहा जा रहा है कि उन्हें पार्टी की कमान सौंपी जा सकती है।

ऐसे में आइए जानते हैं कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए किन चेहरों की सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है।

जेपी नड्डा को 2019 लोकसभा चुनाव के बाद बीजेपी का वर्किंग प्रेसिडेंट बनाया गया था. इसके बाद जनवरी 2020 में उन्हें फुल टाइम बीजेपी अध्यक्ष बनाया गया, जब अमित शाह को नरेंद्र मोदी कैबिनेट में केंद्रीय गृह मंत्री का जिम्मा सौंपा गया।

नड्डा का तीन साल का कार्यकाल पिछले साल जनवरी में ही खत्म हो गया था, लेकिन फिर चुनावी वर्ष को ध्यान में रखते हुए उनके कार्यकाल को जून 2024 तक बढ़ा दिया गया. यही वजह है कि अब नए चेहरे की तलाश की जा रही है।

जानिए बीजेपी अध्यक्ष की रेस में शामिल नाम कौन हैं?

देश की सबसे बड़ी पार्टी के अध्यक्ष बनाए जाने के लिए विनोद तावड़े के नाम की भी चर्चा की जा रही है. वर्तमान में वह बीजेपी के महासचिव हैं।

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री रह चुके तावड़े को बीएल संतोष के बाद सबसे ज्यादा प्रभावशाली महासचिव माना जाता है. तावड़े युवा होने के साथ-साथ पार्टी संगठन को भी बेहतर तरीके से समझते हैं. वह मराठा भी हैं।

बीजेपी ओबीसी मोर्चा चीफ के लक्ष्मण का नाम भी बीजेपी के अगले प्रमुख के तौर पर राजनीतिक गलियारों में लिया जा रहा है. लक्ष्मण तेलंगाना से आते हैं. ये वही राज्य है, जहां बीजेपी आंध्र प्रदेश के बाद दक्षिण में सबसे ज्यादा ध्यान दे रही है।

लक्ष्मण तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष भी रह चुके हैं. उनके पास आक्रामक होने के साथ-साथ शांति से काम निकलवाने की कला भी है।

बीजेपी अध्यक्ष की रेस में सुनील बंसल का नाम भी सामिल है, जो वर्तमान में महासचिव हैं. साथ ही साथ वह पश्चिम बंगाल, तेलंगाना और ओडिशा जैसे तीन राज्यों के इंचार्ज भी हैं।

उत्तर प्रदेश के महासचिव (संगठन) के रूप में उनके कार्यकाल ने उन्हें यूपी की राजनीति में एक शक्ति केंद्र बना दिया. आरएसएस पृष्ठभूमि से जुड़े होने के बावजूद अगर बंसल का नाम विचार के लिए आता है तो उन्हें पार्टी नेतृत्व के एक वर्ग के विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

माना जा रहा है कि राजस्थान से राज्यसभा सदस्य और भैरों सिंह शेखावत के शिष्य ओम माथुर भी बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने की दौड़ में हैं।

माथुर को चेहरे पर मुस्कुराहट के साथ अपनी बात कहने के लिए जाना जाता है. वह आरएसएस के प्रचारक रहे हैं और पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात के प्रभारी भी रह चुके हैं।

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद किसी महिला को भी सौंपने पर विचार कर सकती है. पार्टी के पिछले कुछ सालों में लिए गए फैसले इस बात की तस्दीक करते हैं।

सूत्रों के मुताबिक,, राजनीतिक गलियारों में इस बात को लेकर भी चर्चा चल रही है कि बीजेपी स्मृति ईरानी को अपना मुखिया बना सकती है. हालांकि, इस बात की पुष्टि तभी होगी, जब सच में ऐसा होता है।

Related Articles

Back to top button